MS Dhoni to file case: धोनी ने लगाया आरोप 15 करोड़ की ठगी का जाने क्या है मामला

भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने रांची की एक स्थानीय अदालत में अपने पूर्व व्यापारी साथियों के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज कराई है। धोनी का आरोप है कि आर्का स्पोर्ट्स मैनेजमेंट और उसके दो निदेशक मिहिर दिवाकर और सौम्या विश्वास ने उनका नाम दुरुपयोग करते हुए उनसे लगभग 15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है।

धोनी और आर्का स्पोर्ट्स के बीच कौन सा समझौता हुआ था?

धोनी और आर्का स्पोर्ट्स के बीच 2017 में एक समझौता हुआ था, जिसके तहत उनके नाम पर दुनिया भर में क्रिकेट अकादमियां और खेल कॉम्प्लेक्स शुरू करने का प्रावधान था। इस समझौते के अनुसार, फ्रेंचाइजी शुल्क सीधे धोनी को दिया जाएगा और रॉयल्टी शुल्क में 70:30 का अनुपात होगा। इसके अलावा, आर्का स्पोर्ट्स को धोनी के नाम और छवि का उचित तरीके से इस्तेमाल करना था।

आर्का स्पोर्ट्स ने समझौते की शर्तों का उल्लंघन कैसे किया?

धोनी के वकील दयानंद सिंह का कहना है कि आर्का स्पोर्ट्स ने समझौते की शर्तों का उल्लंघन करते हुए उन्हें फ्रेंचाइजी शुल्क और रॉयल्टी शुल्क नहीं दिया। इसके अलावा, वे धोनी के नाम और छवि का अनुचित तरीके से लाभ उठाते रहे। उन्होंने बताया कि आर्का स्पोर्ट्स ने धोनी के नाम पर 22-23 अकादमियां और कॉम्प्लेक्स खोल दिए, जिससे धोनी को 15 करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है।

धोनी ने आर्का स्पोर्ट्स को कब और कैसे नोटिस भेजा?

धोनी ने जब इस बात का पता लगाया कि आर्का स्पोर्ट्स ने उनके साथ धोखा किया है, तो उन्होंने 15 अगस्त 2021 को आर्का स्पोर्ट्स को अधिकृत पत्र वापस लेने का निर्णय लिया। इसके बाद, उन्होंने आर्का स्पोर्ट्स को कई कानूनी नोटिस भेजे, जिसमें उन्होंने अपने पैसे वापस मांगे और उनके नाम और छवि का दुरुपयोग बंद करने की मांग की।

आर्का स्पोर्ट्स ने धोनी के नोटिस का क्या जवाब दिया?

आर्का स्पोर्ट्स ने धोनी के नोटिस का जवाब देते हुए इनकार किया कि उन्होंने धोनी के अधिकृत पत्र का कोई दुरुपयोग किया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने 15 अगस्त 2021 के बाद किसी तीसरे पक्ष के साथ कोई समझौता नहीं किया है। उन्होंने यह भी कहा कि उनके द्वारा संचालित अकादमियों और कॉम्प्लेक्सों से कोई लाभ नहीं हुआ है, बल्कि नुकसान हुआ है। इसलिए, धोनी को कोई लाभ बांटने का सवाल ही नहीं उठता है।

आर्का स्पोर्ट्स ने धोनी के नोटिस का जवाब देते हुए इनकार किया कि उन्होंने धोनी के अधिकृत पत्र का कोई दुरुपयोग किया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने 15 अगस्त 2021 के बाद किसी तीसरे पक्ष के साथ कोई समझौता नहीं किया है। उन्होंने यह भी कहा कि उनके द्वारा संचालित अकादमियों और कॉम्प्लेक्सों से कोई लाभ नहीं हुआ है, बल्कि नुकसान हुआ है। इसलिए, धोनी को कोई लाभ बांटने का सवाल ही नहीं उठता है।

अब आगे क्या होगा?

धोनी के वकील ने कहा कि उन्होंने आर्का स्पोर्ट्स के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें उन्होंने धोनी को धोखा देने और उनके पैसे लूटने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वे अदालत से न्याय की उम्मीद करते हैं और धोनी को उनका हक दिलाने के लिए संघर्ष करेंगे।

आर्का स्पोर्ट्स के वकील ने भी अपने पक्ष का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने धोनी के साथ कोई गलत काम नहीं किया है और उनके आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने कहा कि वे अदालत में अपने सबूत पेश करेंगे और धोनी के खिलाफ मुकदमा लड़ेंगे।

इस तरह, धोनी और आर्का स्पोर्ट्स के बीच का विवाद अब अदालत में निपटेगा। इस मामले में अगली सुनवाई 20 जनवरी 2024 को होगी। इससे पहले, अदालत ने एक गवाह का बयान रिकॉर्ड किया है, जो धोनी के पक्ष में गवाही देगा। इस मामले में आगे क्या होता है, यह देखना दिलचस्प होगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *